Home » Hindi Articles » आधी भविष्यवाणी – Adhi Bhavishyavani
Adhi Bhavishyavani

आधी भविष्यवाणी – Adhi Bhavishyavani

ईश्वर द्वारा हमारा जो भविष्य लिखा गया है उसे पढ़ने के लिए ईश्वर ने हमें ज्योतिष विद्या भी दी है क्योंकि परमपिता परमात्मा को पता था की आशा की किरण कभी मंद नहीं पड़नी चाहिए ज्योतिष के माध्यम से कम से कम इतना तो पता लगाया ही जा सकता है कि अच्छा समय कब आएगा परंतु बड़े आश्चर्य की बात है कि ज्योतिषाचार्य जो भविष्यवाणी करते हैं वह आधी भविष्यवाणी होती है आइए इसे एक उदाहरण के रूप में समझने की कोशिश करते हैं।

एक व्यक्ति ने पंडित जी से पूछा कि मेरी कितनी संतान होंगी पंडित जी ने उत्तर दिया एक लड़का होगा कुछ समय बाद उस व्यक्ति के दो संतान हुई एक लड़का और एक लड़की अब यहां ध्यान देने की बात यह है कि संतान के विषय में भविष्यवाणी करने के लिए पति और पत्नी दोनों की कुंडली आवश्यक है इस तरह यह आधी भविष्यवाणी हुई।

एक अन्य उदाहरण में जातक को कहा गया कि आपकी दो शादी का योग है बाद में भविष्यवाणी गलत सिद्ध हुई क्योंकि ताली दो हाथ से बजती है पत्नी की कुंडली में ऐसा कोई योग नहीं था जो तलाक जैसी स्थिति उत्पन्न करें हलाकि भविष्यवाणी सही थी लंबे समय तक पति पत्नी में तनाव रहा और पति पत्नी एक दूसरे से सारी उम्र दूर भागते रहे।

एक उदाहरण नौकरी के विषय में भी लीजिए जातक से कहा गया कि साल 2016 में आपकी नौकरी जा सकती है भारी आर्थिक संकट का सामना करना पड़ सकता है परंतु जातक को थोड़ी आर्थिक परेशानी अवश्य हुई उतनी नहीं जितनी गंभीरता भविष्यवाणी में थी।

पत्नी की कुंडली के ग्रहों की स्थिति साल 2016 में उत्तम थी।

यह सब उदाहरण ज्योतिष में सामान्य बात है।

एक बार पंडित जी ने चंद्रमा को अष्टम स्थान में देखकर जातक से कहा कि वर्तमान में चंद्रमा की अंतर्दशा शनि की महादशा में चल रही है इसलिए आपकी मां की तबियत खराब हो सकती है मृत्यु तुल्य कष्ट हो सकता है कब हुआ यह की जातक की माता की आंख का ऑपरेशन हुआ मोतियाबिंद के रूप में।

ध्यान देने की बात यह है कि जातक के दो भाई और एक बहन और थी उन सब की वर्तमान दशा में चंद्रमा की या तो स्थिति अच्छी थी या फिर चंद्रमा की दशा आनी बाकी थी हुई ना आधी भविष्यवाणी।

उपरोक्त सभी उदाहरण केवल इसलिए दिए गए हैं कि इंसान जीवन में अकेला नहीं होता समाज से जुड़ा है परिवार से जुड़ा है और इस जुड़ाव के साथ हमारे ग्रह भी जुड़े हैं मारने वाले से बचाने वाला हमेशा बड़ा माना जाता है यदि आपके ग्रह आपको चोट लगने का संकेत दे रहे हैं तो आपकी पत्नी के ग्रह आप को बचा सकते हैं यदि बचाव की स्थिति में हो तो।

प्रेमी प्रेमिका एक दूसरे से प्रेम करते हैं दोनों की कुंडली देखी तो पता चला प्रेमी की कुंडली में प्रेम विवाह का योग था प्रेमिका की कुंडली में प्रेम विवाह का योग नहीं था फिर भी दोनों का विवाह सर्वसम्मति से संपन्न हुआ तात्पर्य है कि जिस प्रश्न का संबंध दो व्यक्तियों से होता है उसकी भविष्यवाणी एक कुंडली से करना आधी भविष्यवाणी कहलाता है।

प्रबुद्ध पाठकों से निवेदन है कि इस संबंध में अपने विवेक का प्रयोग करें।

#AdhiBhavishyavani, #aadhiBhawishyawani, #aadhiBhavishyavani,

Leave a Reply

Advertisement