Home » Hindi » Attraction Power with Mantras

Attraction Power with Mantras

Font Problem? Read this article in Hindi PDF Version

कभी कभी जीवन में आकर्षण की अत्यधिक आवश्यकता पड़ती है | अकेलापन महसूस होता है जब किसी को दोस्तों से घिरा हुआ देखा जाए | कुछ लोगों में बात ही कुछ ऐसी होती है कि लगता ही नहीं कि कोई समय ऐसा भी होगा कि वह व्यक्ति अकेला हो | जब लगे कि लोग आपसे दूर भागते हैं तो क्या यह संकेत नहीं करता कि आपमें आकर्षण की कमी है?

आकर्षण की तो किसी को जरूरत है | चाहे आप नौकरी करें या व्यापार दूसरे आपकी ओर खींचे चले आयें तो यह आकर्षण आपको कई तरह से फायदा देगा | अधिकारी वर्ग का आकर्षण जरूरी है नहीं तो आप महत्वपूर्ण व्यक्ति नहीं हैं | व्यापार में भी बड़े लोग आपकी ओर आकर्षित होंगे तो आगे बढ़ने के अवसर मिलेंगे | कभी कभी पद प्रतिष्ठा में आपसे कम होने के बावजूद लोग दूसरों को अपनी ओर खींचने में सफल रहते हैं | यह आकर्षण का प्रभाव है |

जीवन साथी की तलाश में हैं तो उपयुक्त वर के लिए आकर्षण की बेहद आवश्यकता होगी | क्योंकि यदि आपको पसंद नहीं किया गया तो आपमें आकर्षण की कमी है | दूसरी ओर यदि आपको पसंद किया गया है तो यह भी आकर्षण का प्रभाव है | यदि आप शादीशुदा हैं तो आकर्षण की जीवन भर आवश्यकता रहेगी क्योंकि आप नहीं चाहेंगे कि आपको आपके पति या आपकी पत्नी नजरअंदाज करे |

जीवन में कुछ समय ऐसा भी होता है जब व्यक्ति अपने चुम्बकीय व्यक्तित्व की वजह से आकर्षण का केंद्र होता है | इस समय को व्यक्ति जीवन में कभी नहीं भूलता |

आइये जानते हैं कि इस आकर्षण का स्त्रोत कहाँ है |

जन्मकुंडली में शुक्र आकर्षण का कारक ग्रह होता है | यही एकमात्र स्त्रोत है जो यदि आपको शक्ति दे तो आपमें दूसरों को आकर्षित करने की शक्ति आ जाती है | शुक्र आकर्षित करता है और शनि एकान्त प्रिय है | शुक्र का प्रभाव होता है तो लोग चले आते हैं और शनि का प्रभाव होने पर आप लोगों से दूर भागते हैं या लोग आपसे दूर भागते हैं | परन्तु राहू का प्रभाव अलग है | राहू अधिष्ठित व्यक्ति अकेले रहते हुए भी दूसरों को अपनी ओर आकर्षित करने की योग्यता रखते हैं |

व्यक्तित्व में आकर्षण उत्पन्न करने के उपाय

यदि आकर्षण जीवन में सफलता दिला सकता है तो क्यों न इसे प्राप्त किया जाए | यदि वास्तव में आप अपने भीतर ऐसी शक्ति चाहते हैं तो इसके उपाय हैं |
इस सन्दर्भ में सिद्ध शुक्र यंत्र के समक्ष आकर्षण मन्त्र का त्रिपुष्कर मुहूर्त में प्रयोग करने से आकर्षण प्राप्त किया जा सकता है | केवल ४० दिन के भीतर आप अपने व्यक्तित्व का प्रभाव देखेंगे | आपकी कुंडली के द्वारा ही यह पता लगाया जा सकता है कि यह यंत्र आपके लिए लाभदायक रहेगा या नहीं इसलिए जिन व्यक्तियों की जन्मकुंडली नहीं है वे कृपया क्षमा करें |

अधिक जानकारी के लिए स्वयं मिलें या info@horoscope-india.com  पर ईमेल करें |

 

Leave a Reply

Follow me on Twitter