Home » Hindi » खूबसूरत पत्नी और ज्योतिष

खूबसूरत पत्नी और ज्योतिष

यह प्रश्न किसी स्वप्न जैसा प्रतीत होता है उन लोगों के लिए जो इस प्रश्न का उत्तर खोजते हुए यहाँ आ पहुंचे हैं | फिर भी मैंने यथासंभव अपने पाठकों की जिज्ञासा को शांत करने का प्रयत्न किया है | किन ग्रह नक्षत्रों के योग से सुन्दर पत्नी का सुख मिलता है ? कैसे पता लगाएं कि पत्नी का रूप कैसा होगा | वो खूबसूरत होगी या नहीं | यदि आपको इन प्रश्नों का उत्तर पहले से पता है तो विवाह के लिए आप और भी उत्सुक होंगे |

जीवन भर जन्म कुंडली देखते देखते अब ऐसा लगता है कि यदि कोई प्रश्न अब भी बचा रह गया है उसका भी उत्तर शीघ्रता से दे दूं | विधाता ने  इस जिम्मेदारी को मुझे सौंप कर मेरा मान बढ़ाया है इसलिए अच्छे बुरे, संगत असंगत, तर्कशील या बेतुके प्रश्नों के भी उत्तर लिखने में मुझे कोई संकोच नहीं होता |

जन्म कुंडली और सुन्दर पत्नी

सातवाँ घर जन्म कुंडली का और शुक्र दोनों ही पत्नी के विषय में जानने के लिए काफी हैं | यदि आपको ज्योतिष का जरा सा भी ज्ञान है तो आप समझ पायेंगे कि शुक्र का कुंडली में क्या महत्व है | उतना ही जितना आप अपना स्वयं का महत्व समझते हैं | इसलिए कभी अनदेखा न करें यदि कुंडली के सप्तम स्थान में मंगल, शनि, राहू, केतु या सूर्य में से एक भी ग्रह मौजूद हो | यदि इनमे से सूर्य हो तो विशेष चिंता की बात नहीं है जब तक की सूर्य मकर या तुला राशी का न हो | मंगल भी यदि मेष वृश्चिक धनु मकर मीन का यहाँ होगा तो विशेष नुक्सान नहीं करेगा परन्तु यदि कर्क तुला मिथुन कन्या राशी का मंगल सप्तम में हो तो प्रबल मंगलीक योग के साथ साथ आपकी अपनी पत्नी के साथ नहीं बनेगी | राहू के सप्तम भाव में होने का अर्थ है की आप अपनी पत्नी से दूर रहेंगे | या आपका अपनी पत्नी से बिछड़ना संभव है | अलगाव का यह योग आपकी कुंडली में और भी प्रबल हो जाएगा यदि राहू को सूर्य का साथ मिल जाए | यह तलाक का योग बनता है | केतु का फल भी यहाँ अच्छा नहीं माना जाता परन्तु यदि मीन या धनु राशी का केतु हो तो आपकी पत्नी सर्व गुण संपन्न होने के साथ साथ खूबसूरत भी होगी |
शनि की सप्तम भाव में स्थिति मांगलिक दोष हो भी तो उसको कम कर देती है परन्तु विवाह देर से होता है | शनि यदि अकेला हो तो कम लाभ देगा यदि उसके मित्र शुक्र बुध उसके साथ यहाँ हों तो अति सुन्दर पत्नी के स्वामी आप बनेंगे

3 comments

  1. Please help sir,

    DOB 27/09/1983. time 10.25 am guwahati. Delay in marriage due to engagement which was broken 2 years back with very small reasons which are ignorable. now shortage of good proposals. Please suggest remedy and when I could be married.

  2. respected sir
    if rahu is in ascedent with kumbh lagna, and ketu in 7th house with sivh rashi as well as rahu dhrushti in 7th house then what happen?

Leave a Reply

Follow me on Twitter